About Daman & Diu

राजभाषा विभाग, दीव

राजभाषा विभाग, समाहर्तालय, दीव
राजभाषा विभाग
समाहर्तालय, दीव
टेलीफोन नं. : - 02875 253489

प्रस्‍तावना:

 
संघ की राजभाषा संबंधी नीतियों के अनुपालन को मॉनिटर करने एवं कार्यालयीन कामकाज में हिन्‍दी के प्रयोग को बढ़ावा देने के उद्देश्‍य से संघ प्रदेश दमण एवं दीव प्रशासन में 1997 में एक स्‍वतंत्र विभाग के रूप में राजभाषा विभाग की स्‍थापना की गई । दमण जिला में यह विभाग सचिवालय परिसर में और दीव जिला में समाहर्तालय परिसर में स्‍थापित  है ।

दीव जिला के सरकारी कार्यालयों में राजभाषा हिन्‍दी के प्रगामी प्रयोग को बढ़ावा देने के लिए राजभाषा विभाग प्रयासरत है । इसके लिए दीव में नगर राजभाषा कार्यान्‍वयन समिति, राजभाषा कार्यान्‍वयन समिति एवं राजभाषा उप-निरीक्षण समिति का गठन किया गया है । गृह मंत्रालय, राजभाषा विभाग, नई दिल्‍ली द्वारा जारी वार्षिक कार्यक्रम के अनुसार राजभाषा विभाग, दीव द्वारा इन समितियों की बैठक आयोजित की जाती  है । इसके अलावे हिन्‍दी के प्रयोग को सुगम बनाने के लिए यह विभाग  (i) अधिकारियों एवं कर्मचारियों के लिए  हिन्‍दी कार्यशालाएं;  (ii)  कर्मचारियों के लिए हिन्‍दी भाषा, हिन्‍दी टंकण एवं हिन्‍दी आशुलिपि का प्रशिक्षण;   (iii) अधिकारियों, कर्मचारियों एवं कार्यालयों को हिन्‍दी में सर्वाधिक काम करने के लिए प्रोत्‍साहन योजनाएं;  (iv) हिन्‍दी दिवस एवं हिन्‍दी पखवाड़ा का आयोजन;  तथा (v)  अनुवाद कार्य जैसे अनेक कामों को संपन्‍न करता है ।

उल्‍लेखनीय है कि इस विभाग का संबंध आम नागरिकों से सीधे नहीं है । विभाग के कार्यकलाप एवं सेवाएं प्रमुख रूप से सरकारी कार्यालयों के लिए होती हैं । फिर भी विभाग आम नागरिकों की हिन्‍दी से संबंधित सेवा के लिए सदैव तत्‍पर रहता है । इस ‘नागरिक चार्टर’  का निर्माण इसलिए किया गया है ताकि सभी को विभाग, इसके कार्यों/प्रदान की जानेवाली सेवाओं के बारे में आसानी से जानकारी मिल सके ।
 

राजभाषा विभाग, दीव में सृजित पदों की स्‍थिति:

 
क्र.सं.
पदों का नाम
सृजित पद
भरे गए पद
रिक्‍त पद
अभ्‍युक्‍ति
1.
सहायक निदेशक (रा.भा.)
01
01
--
--
2.
वरिष्‍ठ हिन्‍दी अनुवादक
01
01
--
--
3.
कनिष्‍ठ हिन्‍दी अनुवादक
02
02
--
--
4.
हिन्‍दी टाइपिस्‍ट
01
01
--
--

हमारा उद्देश्‍य:

 
सरकारी कामकाज में राजभाषा हिन्‍दी के प्रयोग को बढ़ावा देने के लिए एक ऐसे परिवेश का निर्माण करना ताकि लोग बेझिझक हिन्‍दी में अपनी बातों को प्रस्‍तुत कर सकें ।
 

विभाग के कार्य/प्रदान की जानेवाली सेवाएं:

 
  • दीव जिला स्‍थित संघ प्रदेश प्रशासन के सभी कार्यालयों, केन्‍द्रीय सरकारी कार्यालयों, राष्‍ट्रीयकृत बैंकों, सरकारी उपक्रमों, निगमों, शैक्षिणक/तकनीकी संस्‍थानों एवं स्‍थानीय निकायों  में आग्रह, प्रेरणा एवं प्रोत्‍साहन से राजभाषा हिन्‍दी के प्रयोग को बढ़ावा  देना ।
  • गृह मंत्रालय, राजभाषा विभाग, नई दिल्‍ली एवं क्षेत्रीय कार्यान्‍वयन कार्यालय (पश्‍चिम), नवी मुम्‍बई द्वारा जारी निर्देशों को परिचालित करना ।
  • दीव के सरकारी कार्यालयों में राजभाषा नीति के कार्यान्‍वयन  की स्‍थिति को मॉनिटर करना, समीक्षा करना एवं आवश्‍यक सलाह/सुझाव देना ।
  • प्रशासन के सभी कार्यालयों से तिमाही हिन्‍दी प्रगति रिपोर्ट प्राप्‍त करना और उनका समेकन कर राजभाषा विभाग, गृह मंत्रालय, नई दिल्‍ली को भेजना।
  • नगर राजभाषा कार्यान्‍वयन समिति एवं राजभाषा कार्यान्‍वयन समिति की बैठकों का आयोजन करना ।
  • बैठकों में तिमाही हिन्‍दी प्रगति रिपोर्टों की समीक्षा करना एवं राजभाषा हिन्‍दी के प्रगामी प्रयोग से संबंधी निर्णय लेना ।
  • बैठक में लिए गए निर्णयों पर अनुवर्ती कार्रवाई करना ।
  • कर्मचारियों को हिन्‍दी भाषा, हिन्‍दी टंकण एवं हिन्‍दी आशुलिपि का प्रशिक्षण प्रदान करना ।
  • अधिकारियों एवं कर्मचारियों के लिए हिन्‍दी कार्यशालाओं का आयोजन  करना ।
  • कंप्‍यूटर पर हिन्‍दी में काम करने के लिए एन.आई.सी. व अन्‍य के सहयोग से प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन करना ।
  • केन्‍द्रीय अनुवाद ब्‍यूरो, नई दिल्‍ली के सहयोग से कर्मचारियों को हिन्‍दी अनुवाद का प्रशिक्षण देना ।
  • कार्यालयों से प्राप्‍त कागजातों, पत्रों आदि का अंग्रेजी से हिन्‍दी और विलोमत: अनुवाद करना ।
  • राजभाषा अधिनियम 1963 की धारा 3(3) के अंतर्गत जारी होनेवाले कागजातों को द्विभाषी रूप में जारी करने के लिए तत्‍काल अनुवाद करना ।
  • प्रशासन में  प्रयोग होनेवाले कोड, मैनुअलों को अनुवाद के लिए केन्‍द्रीय अनुवाद ब्‍यूरो, नई दिल्‍ली को भेजना ।  
  • राजभाषा उप-निरीक्षण समिति द्वारा प्रशासन के कार्यालयों में हिन्‍दी कामकाज का निरीक्षण करना एवं आवश्‍यक सलाह/सुझाव देना ।
  • अधिकारियों व कर्मचारियों को हिन्‍दी में काम करने के लिए प्रेरित करने हेतु प्रोत्‍साहन योजनाओं को लागू करना ।
  • कार्यालयों के लिए हिन्‍दी में सर्वाधिक काम करने हेतु चलशील्‍ड पुरस्‍कार योजना को लागू करना ।
  • विभिन्‍न राष्‍ट्रीय त्‍योहारों पर दिये जानेवाले शीर्षस्‍थ अधिकारियों के भाषणों को तैयार करना/अनुवाद करना ।
  • हिन्‍दी दिवस एवं हिन्‍दी पखवाड़ा का आयोजन करना ।
  • हिन्‍दी गोष्‍ठियों, संगोष्‍ठियों, संध्‍याओं, सम्‍मेलनों आदि का आयोजन   करना ।
  • विभागीय वार्षिक पत्रिका राजभाषा सुरूचि का प्रकाशन करना ।
  • शीर्षस्‍थ अधिकारियों द्वारा समय-समय पर सौंपे गए अन्‍य अपेक्षित कार्यों को पूरा करना ।
 

दीव जिला में हिन्‍दी भाषा (प्राज्ञ) एवं हिन्‍दी टंकण प्रशिक्षण की स्‍थिति:

 
भारत सरकार की हिन्‍दी शिक्षण योजना के तहत दीव जिला के कुल 205 सरकारी कर्मचारियों को हिन्‍दी भाषा (प्राज्ञ) एवं 112 कर्मचारियों को हिन्‍दी टंकण का प्रशिक्षण दिया जा चुका है । शेष कर्मचारियों को वर्ष 2015 तक प्रशिक्षित किये जाने का लक्ष्‍य है ।
 

कार्यालय प्रमुखों की सूची :

 
क्र.सं. नाम पदनाम कब से कब तक
1.
श्री बी. बी. मकवाणा
हिन्‍दी समन्‍वयक 1997 24 मई, 2005
2.
डॉ. अनिल कौशिक
सहायक निदेशक (रा.भा.) 25 मई, 2005 03 अगस्‍त, 2011
3.
श्री अंतर्यामी परिडा
सहायक निदेशक (रा.भा.) 04 अगस्‍त, 2011 .....

नई अपडेट...

 
 

शिकायतों का निवारण:

 
विभाग द्वारा प्रदान की जानेवाली किसी भी सेवा में कमी की स्‍थिति में डॉ. अनिल कौशिक, सहायक निदेशक (राजभाषा), राजभाषा विभाग, समाहर्तालय, दीव -362 520 (टेलीफैक्‍स : 02875-253489)  से संपर्क किया जा सकता है ।
Go to Navigation